Rajasthani - Muhawarein

अ-अः

  • अकल बिना ऊंट उभाणा फिरैं ।
  • अगम् बुद्धि बाणिया पिछम् बुद्धि जाट ...बामण सपनपाट ।
  • आंध्यां की माखी राम उडावै ।
  • आसोजां का पड्या तावडा जोगी बणग्या जाट ।
  • ऊन'रै को जायेड़ो बिल ही खोदै ।

क-घ

  • क ख ग घ ड़, काको खोटा क्यों घडै ।
  • कपूत हूँ नपूत भलो ।
  • कर रै बेटा फाटको, खड्यो पी दूध को बाटको ।
  • काणी के ब्याह में सो टेड ।
  • काम का ना काज का ... ढाई मण अनाज का ।
  • कौड़ी बिन कीमत नहीं सगा नॅ राखै साथ, हुवै जे नामों (रूपया) हाथ मैं बैरी बूझै बात।
  • खरी कमाई घणी कमाई ।
  • खेती करै नॅ बिणजी जाय, विद्या कै बल बैठ्यो खाय ।
  • गादड़ै की मोत आवै जणा गांव कानी भागै।
  • गोदी मैं छोरो गळी मैं हेरै ।
  • घी सुधारै खीचड़ी, और बड्डी बहू का नाम ।
  • घैरगडी सासू छोटी भू बडी ।

च-झ

  • च्यार चोर चौरासी बाणिया, बाणिया बापड़ा के करँ ।
  • छड़ी पड़ै छमाछम, विद्या आवै धमाधम।
  • ज्यादा स्याणु कागलो गू मैं चांच दे ।
  • जाओ लाख रैवो साख, गई साख तो बची राख ।
  • जंगल जाट न छोड़िये,हाटां बीच किराड़। रांगड़ कदे न छोड़िये,ये हरदम करे बिगाड़।।
  • जमीन ऍर जोरु जोर की नहीं तो कोई और की।
  • जाट जंवाई भाणजो, रेवारींरु सुनार । ऐता नहीं है आपणा, कर देखो उपकार ।।
  • जाट बलवान जय भगवान ।
  • जाट मरा जब जानिये जब चालिसा होय ।
  • जैं करी सरम, बैंका फूट्या करम ।
  • जो गुड़ सैं मरै बी'नै जहर की के जरुरत।

ट-ढ

  • डाकण बेटा ले क दे ।

त-न

  • तीज त्यौहारां बावड़ी, ले डूबी गणगौर।
  • दियो लियो आडो आवै ।
  • दूसरे की थाळी मँ घी ज्यादा दीखॅ।
  • दूसरे की थाळी में सदा हि ज्यादा लाडू दीखैं ।
  • धन्‍ना जाट का हरिसों हेत, बिना बीज के निपजँ खेत।
  • नानी फंड करै, दोहितो दंड भरै ।
  • नेपॅ की रुख खेड़ा'ई बतादें ।

प-म

  • पूत का पग पालणें में ही दीख जा हीं ।
  • पत्थर का बाट - जत्ता भी तोलो, घाट-ही-घाट ।
  • पीसो हाथ को, भाई साथ को ही काम आवै ।
  • बहुआं हाथ चोर मरावै, चोर बहू का भाई ।
  • बाप ना मारी मांखी, बेटो तीरंदाज ।
  • बाबो सगळां'नॅ लड़ॅ, बाबॅ'न कुण लड़ॅ ।
  • बिना बुलाया पावणा, घी घालूं कॅ तेल ।
  • बिना रोऍ तो मा'ई बोबो कोनी दे ।
  • बीन कॅ'ई लाळ पड़ँ जणा बराती के करँ ।
  • बैठणो छाया मैं हुओ भलां कैर ही, रहणो भायां मैं हुओ भलां बैर ही ।
  • भौंकँ जका काटँ कोनी ।
  • मन का लाडु खाटा क्यों ।
  • म्हानैं घडगी अ'र बेमाता बाड़ मैं बड़गी ।
  • मँगो रोवे ऐक बार, सस्तो रोवे सो बार ।
  • मानो तो देव नहीं तो भींत को लेव।
  • मेवा तो बरसँता भला, होणी होवॅ सो होय ।
  • मेह की रुख तो भदवड़ा'ई बता दें ।

य-व

  • रांड स्याणी हुवै पण कसम मर्यां फेर ।
  • रूप की रोवै करम की खावै ।
  • रूपयो होवै रोकड़ी सोरो, आवै सांस, संपत होय तो घर भलो, नहीं भलो परदेस।
  • रोता जां बै मरेडां की खबर ल्यावैं ।

श-ह

  • सरलायो छूंदरो, बद्दां बंध्यो जाट । मदमाती गूजरी, तीनों वारां बाट ।।
  • साबत रैसी सर तो घणाई बससीं घर।
  • सात घर तो डाकण भी छोड दिया करै है।
  • सावण भलो सूर'यो भादुड़ो पिरवाय, आसोजां मैं पछवा चाली गाडा भर भर ल्याव ।
  • हाँसी-हाँसी में हो-ज्यासी खाँसी ।